केजरीवाल पर जूता फेंकने वाला जब माफी मांगने पहुंचा उनके घर तो दिल्ली सीएम ने कर दिया ऐसा काम

पिछले कुछ दिनों से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का स्वभाव बदला बदला सा नजर आ रहा है। आपको पता होगा कि केजरीवाल ने कई बड़े राजनेताओं पर भ्रष्टाचार जैसे कई गंभीर आरोप लगाये हैं लेकिन अब बीते कुछ दिनों से वह कई राजनेताओं से बड़ी विनम्रता से माफी मांग चुके हैं। जहां एक समय केजरीवाल विपक्ष के नेताओं पर आरोप लगाते नहीं थकते थे अब उनसे ही माफी मांग रहे हैं उनमें अचानक आए बदलाव से काफी लोग हैरान हैं वहीं दूसरी ओर सोशल मीडिया पर इसको लेकर लोग केजरीवाल का मजाक भी उड़ा रहे हैं। बता दें कि केजरीवाल पिछले कुछ समय में बिक्रम मजीठिया, कपिल सिब्बल, नितिन गडकरी और अरुण जेटली से माफी मांग चुके हैं। एक तरफ जहां केजरीवाल मांफी अभियान चला रहे थे तो वहीं दिल्ली के सीएम पर स्याही और जूता फेंकने वाले भी उनसे मांफी मांगने के लिए उनके घर जा पहुंचे।

माफी मांगने पहुंचा केजरीवाल पर जूता फेंकने वाला शख्स :

बता दें कि दो साल पहले 2016 में वेद प्रकाश नाम के एक शख्स ने संवाददाता सम्मेलन में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर जूता फेंका था। हालांकि जूता केजरीवाल को लगा नहीं था, क्योंकि एक अधिकारी ने जूते को बीच में ही रोक लिया था। जिसके बाद वेद प्रकाश को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भी भेजा गया था। बाद में पता चला कि केजरीवाल पर जूता फेंकने वाला व्यक्ति आम आदमी सेना का महासचिव था और केजरीवाल की नीतियों से नाराज था। हाल ही में वेद प्रकाश अपनी गलती की माफी मांगने के लिए केजरीवाल के घर पहुंचे थे। उनके साथ छत्रसाल स्टेडियम में 5 अक्तूबर, 2016 को हुई जब एक समारोह में केजरीवाल पर स्याही फेंकने वाली भावना अरोड़ा भी केजरीवाल के घर माफी मांगने गई थी।

केजरीवाल ने मिलने से किया इनकार :

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वेद प्रकाश शर्मा और केजरीवाल पर स्याही फेंकने वाली भावना अरोड़ा जब सीएम से माफी मांगने के लिए उनके निवास स्थान पर पहुंचे तो केजरीवाल ने उनसे मिलने से इनकार कर दिया और उनसे मुलाकात नहीं की। जिसके बाद उन दोनों ने उनके कार्यालय में अपना लिखित माफीनामा दे दिया। लोग कह रहे हैं कि केजरीवाल ने उनको इसलिए मिलने से इंकार कर दिया क्योंकि वे उनको माफ नहीं करना चाहते थे।

आम आदमी पार्टी ने लगाये थे बीजेपी पर आरोप :

बता दें कि जब केजरीवाल पर जूता और स्याही फेंकी गई तब जमकर राजनीति हुई थी। दिल्ली के पूर्व जल संसाधन मंत्री कपिल मिश्रा ने इस हमले के पीछे बीजेपी का हाथ बताया था। कपिल मिश्रा का कहना था कि वेद प्रकाश शर्मा इस हमले से पहले बीजेपी के एक नेता के संपर्क में था। कपिल मिश्रा ने ट्वीट करते हुए कहा था कि, ‘वेद प्रकाश शर्मा की कॉल डिटेल की जांच होनी चाहिए। उसने हमले से ठीक पहले दिल्ली बीजेपी नेता को फोन किया था।’ वहीं बीजेपी ने अपने ऊपर लगे आरोपों को निराधार बताते हुए इस घटना की कड़ी निंदा की थी। इसके अलावा केजरीवाल पर स्याही फेंकने वाली भावना अरोड़ा, केजरीवाल से सीएनजी स्टिकर के वितरण में कथित अनियमितताओं में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने को लेकर नाराज थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.