16 साल की लड़की ने भारत का सर किया गर्व से ऊँचा, शूटिंग में गोल्ड मेडल जीतकर बनाया यह रिकॉर्ड

पानीपत: कॉमनवेल्थ गेम्स का सिलसिला शुरू हो गया है। भारत अपनी धमाकेदार पारियों के साथ सबको हैरान करने की फ़िराक में लगा हुआ है। आपकी जानकारी के लिए बता दें भारत में बेहतरीन खिलाडियों की कमी नहीं है। लेकिन ज्यादातर लोगों का ध्यान सिर्फ क्रिकेट के ऊपर ही लगा रहता है। इसी वजह से खिलाड़ी प्रोत्साहित नहीं हो पाते हैं। एक तरफ आईपीएल चल रहा है तो दूसरी तरफ कॉमनवेल्थ गेम्स चल रहे हैं। कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत ने अब तक कई मेडल जीतकर भारत का सर गर्व से उंचा किया है।

गेम में 10m एयर पिस्टल प्रतियोगिता में भारत की महिला शूटर मनु भाकर ने गोल्ड मेडल जीता है। आपको जानकर काफी हैरानी होगी कि ये मनु का 35 दिनों में छठवां गोल्ड मेडल है। इससे पहले जूनियर वर्ल्ड चैंपियन में 3 और सीनियर चैंपियनशिप में 2 गोल्ड मेडल जीते थे। क्वालीफायर राउंड से लेकर फाइनल्स तक मनु भाकर लगातार सबसे आगे बनी रहीं और फाइनल में हमवतन हिना सिद्धू को हराया। आपको बता दें अभी मनु की उम्र केवल 16 साल है। इसे में वह कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली सबसे कम उम्र की लड़की बन गयी हैं।

आपको जानकर काफी हैरानी होगी कि बेटी के सपने को पूरा करने के लिए मनु के पिता ने अपनी नौकरी भी छोड़ दी और अब हर जगह उनके साथ ही जाते हैं। वहीँ बेटी ने भी पिता के सपने को पूरा करते हुए गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया। जानकारी के अनुसार जब मनु ने शूटिंग शुरू की तो बालिग ना होने की वजह से वह बंदूक कहीं लेकर आ-जा नहीं सकती थीं। कहीं जाना हो तो खुद से गाडी भी चलाकर नहीं जा सकती थीं। इन्ही सब परेशानियों को देखते हुए इनके पिता ने अपनी नौकरी छोड़ दी और बेटी के खेल पर ही पूरा ध्यान लगा दिया।

मनु के पापा ने बताया कि स्कूल का टूर्नामेंट हो या नेशनल हो मेरी बेटी कभी खाली हाथ वापस नहीं आई। गाँव के जिस स्कूल में मनु पढ़ी हैं, लोग उस स्कूल को मनु भाकर वाला स्कूल कहकर बुलाते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें मनु ने शूटिंग से पहले और 6 गेम्स में अपने हाथ आजमा चुकी हैं। अप्रैल में मनु को शूटिंग करते हुए पूरे 2 साल हो जायेंगे। मनु पिछले साल आईएसएफएफ में 49वें नंबर थी, लेकिन अब सीनियर वर्ल्ड कप में पहले नंबर पर हैं। मनु के पिता ने बताया कि उनकी बेटी हर साल अपना खेल बदलती रहती है। अब तक मनु कराटे, स्विमिंग, टेनिस और स्केटिंग खेल चुकी है।

मनु कराटे में नेशनल लेवल पर मेडल जीत चुकी है, वहीँ स्केटिंग में स्टेट मेडल जीता है। अपने खेल बदलने की आदत की वजह से वह कराटे से कोई और गेम खेलना चाहती थी। एक दिन वह स्कूल के शूटिंग रेंज से गुजर रही थी, तभी उसके दिमाग में शूटिंग में हाथ आजमाने की बात आई। मनु ने वहीँ से किसी के पिस्टल से निशाना लगाया तो निशाना टारगेट से काफी नजदीक था। उसके बाद स्कूल के शूटिंग अकदमी में ट्रेनिंग लेनी शुरू कर दी। हाल ही में मनु ने खेलो इंडिया में 10 मीटर एयर पिस्टल के जूनियर वर्ग में दो नेशनल रिकॉर्ड बनाये। उन्होंने तीन साल पुराना रिकॉर्ड भी तोड़ दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *