पेड़ पौधों को बचाने के लिए बना डाला ऐसा डिजाइन, तस्वीरें देखकर हो जाएंगे हैरान

नमस्कार दोस्तों आप सभी लोगों का हमारे लेख में स्वागत है दोस्तों पेड़ पौधे प्रकृति का अनमोल तोहफा है और पेड़ पौधे हमारे सबसे अच्छे मित्र भी हैं हमारे द्वारा जो पेड़ पौधे लगाए जाते हैं उससे हमको ही लाभ प्राप्त होता है और आने वाली कई पीढ़ियों को लाभ पहुंचता है हवा पानी खाने पीने की सामग्री इंधन वस्त्र जानवरों का चारा अन्य कार्यों में प्रयोग करने के लिए लकड़ी सब कुछ हमें इन्हीं पेड़-पौधे से ही प्राप्त होता है इन पेड़ पौधो के माध्यम से हमको ऑक्सीजन भी मिलता है इन पेड़ पौधों के ऊपर बहुत से पक्षी अपना घर भी बनाते हैं यदि पेड़ ना हो तो हम इन सब चीजों की कल्पना भी नहीं कर सकते है।

परंतु क्या मनुष्य इस प्राकृतिक संसाधन से अपना लाभ लेना ही जानता है या वह इसके संरक्षण और संवर्द्धन कि और भी जागरुक है आजकल के समय की स्थिति को देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि हम पेड़-पौधों को बचाना तो चाहते हैं पर शायद उतना प्रयास नहीं कर पा रहे हैं जितना करना चाहिए ऐसी परिस्थिति में धीरे-धीरे प्रकृति का संतुलन बिगड़ता जाएगा और हम प्रकृति की इस अमूल्य संपदा को धीरे-धीरे अन्य प्रजातियों को लुप्त कर देंगे इस प्रकार से तो इस धरती पर ना जीवन होगा और ना ही यहां पर कोई जीव होगा।

अतः हमें चाहिए कि हमारे आसपास जितनी भी खाली भूमि दिखाई दे हम वहां पेड़ पौधे लगाएं और अपने घर में गमलों में भी इस अमूल्य धरोहर को संरक्षित करें यदि यह छोटा सा कदम हर व्यक्ति उठाएगा तो इससे सब का जीवन खुशहाल रहेगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज हम आपके लिए कुछ ऐसी तस्वीरों को लेकर आए हैं जिन्हें देखने के बाद आप आश्चर्यचकित रह जाएंगे आज हम कुछ ऐसे लोगों के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं जिनको पेड़-पौधों से इतना प्यार है कि उन्होंने पेड़ पौधों को बचाने के लिए अपने घर के डिजाइन में परिवर्तन कर दिया है।

आप इन व्यक्तियों के पेड़ पौधों के प्रति उनके प्रेम को देखेंगे तो आप भी इनकी तारीफ किए बिना रह नहीं पाएंगे ज्यादातर लोगों को देखा गया है कि ऐसी स्थिति में पेड़-पौधों को काट कर अपना घर बना लेते हैं परंतु इन व्यक्तियों ने ऐसा बिल्कुल भी नहीं किया है।

इस प्रकार के लोग हमको प्रकृति का सम्मान करने की सीख देते हैं जो व्यक्ति प्रकृति का सम्मान करते हैं उन व्यक्तियों का भगवान भी सम्मान करता है विकास की अंधी दौड़ में हमने प्रकृति को बहुत हानि पहुंचाई है जल जमीन वायुमंडल और पेड़-पौधे यह सभी प्रकृति का ही हिस्सा होते हैं।

आपको बता दें कि हमारे पूर्वज प्रकृति के साथ एक तालमेल बनाकर रहते थे उनको इस बात का ज्ञान था कि प्रकृति के साथ छेड़छाड़ करना ठीक नहीं होता है।

आपको बता दें कि हमारे पूर्वजों ने प्रकृति के साथ जीना सीख लिया था यही वजह है कि इंसान अपना अस्तित्व पिछले हजारों सालों में बचा पाया है लेकिन आज कल की पीढ़ी प्रकृति के साथ खिलवाड़ करके एक भयानक गलती को अंजाम दे रही है।

हमारे आसपास का स्थान दूषित होता जा रहा है पानी पीने योग्य नहीं रह गया है और प्रदूषण इतना बढ़ गया है कि वायुमंडल प्रदूषित होता जा रहा है यदि अभी हम इन सभी बातों को समझ लें तो हमारी आने वाली पीढ़ियां सही रहेंगीं अन्यथा उनको नुकसान उठाना पड़ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.