यह पौधा खुजली पथरी और गंजापन को कर देता है जड़ से खत्म, जानिए इसके उपयोग के बारे में

आक को मदार भी कहा जाता है यह पौधा गर्मी के दिनों में बहुत ही तेजी के साथ बढ़ता है इस पौधे को हम जंगली और बेकार सा पौधा समझकर यूं ही अनदेखा करते रहते हैं परंतु यह पौधा अपने औषधीय गुणों की वजह से प्रकृति का वरदान है इस पौधे का उपयोग आयुर्वेद होम्योपैथी और एलोपैथी सभी में किया जाता है यह एक मृदु उपविष है जिसका उपयोग आयुर्वेद में कई असाध्य और हठी रोगों के लिए बताया गया है यह पौधा 120 सेंटीमीटर से 150 सेंटीमीटर तक लंबा होता है आक का पौधा कहीं भी उग जाता है यह आपको गलियों सड़कों के किनारे भी उगे हुए दिखाई दे जाएंगे आक के पौधे को आक मदार अर्क और अकौवा भी कहा जाता है सफेद मदार के पौधे में गणेश जी का वास माना गया है जिस घर में यह पौधा लगा होता है वहां किसी भी प्रकार के तंत्र मंत्र या जादू टोने का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है इस पौधे के अंदर बहुत ही उपयोगी गुण पाए जाते हैं।

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से आक के पौधे से क्या-क्या लाभ प्राप्त होते हैं इसके बारे में जानकारी देने जा रहे हैं।

आइए जानते हैं इसके फायदों के बारे में

खाज-खुजली में राहत

अगर किसी व्यक्ति को खाज खुजली जैसी परेशानी है तो इसके लिए आक के 10 सूखे पत्ते सरसों के तेल में उबालकर जला लीजिए फिर तेल को छानकर ठंडा होने के पश्चात इसमें कपूर की चार टिकिया का चूर्ण अच्छी तरह से मिलाकर किसी शीशी में भर लीजिए और खाज खुजली वाले अंगों पर यह तेल 3 बार लगाएं अगर आप ऐसा करेंगे तो आपको खाज खुजली से राहत प्राप्त होगी।

पथरी

अगर किसी व्यक्ति को पथरी की शिकायत है तो इसके लिए आक के 10 फूल पीसकर एक गिलास दूध में घोलकर रोजाना सुबह 40 दिन तक पीने से आपकी पथरी निकल जाएगी।

गंजापन

जिन व्यक्तियों के बाल गिर गए हैं उनको आक के दूध को गंजे स्थान पर लगाने से बाल पुनः उग आते हैं यह गंजेपन का रामबाण उपचार है परंतु आपको इस बात का खास ध्यान देना होगा कि इसका दूध आंख में नहीं जाना चाहिए नहीं तो आपकी आंख खराब हो सकती है।

पुरानी खांसी

यदि आप खांसी से बहुत ही ज्यादा परेशान है और बहुत सी दवाई लेने के बावजूद भी आपकी खांसी में आराम नहीं मिल पा रहा है तो आक की जड़ को महीन पीसकर उसमें थोड़ी सी काली मिर्च मिला लीजिए इसके पश्चात इसकी छोटी-छोटी गोली बना लीजिए अब इसका सेवन सुबह और शाम कीजिए अगर आप ऐसा करते हैं तो आपकी पुरानी से पुरानी खांसी भी ठीक हो जाएगी।

बवासीर

यदि कोई व्यक्ति बवासीर की समस्या से परेशान है तो इसके लिए आक के पौधे या फूलों को आग पर रख लीजिए और उससे जो धुआँ निकलेगा उससे बवासीर वाले स्थान की सिकाई कीजिए अगर आप ऐसा करते हैं तो इससे कुछ ही समय में आपकी यह परेशानी जड़ से समाप्त हो जाएगी।

नोट:- यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी तो आप नीचे दिए हुए कमेंट बॉक्स में हमको कमेंट कर सकते हैं और इस पोस्ट को अपने मित्रों के बीच शेयर भी कर सकते हैं हम आगे भी इसी प्रकार से जानने योग्य जानकारियां लेख के माध्यम से लाते रहेंगे धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *