Homeमुख्य समाचारCM अशोक गहलोत दलित छात्र की शिक्षक से पिटाई हुई मौत के...

CM अशोक गहलोत दलित छात्र की शिक्षक से पिटाई हुई मौत के मामले में गहरा दुख जताया है

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जालौर जिले के सुराणा गांव में दलित छात्र की शिक्षक से पिटाई हुई मौत के मामले में गहरा दुख जताया है। सीएम गहलोत ने शनिवार देर रात घटना पर ट्वीट करते हुए लिखा- जालौर के जायला थाना क्षेत्र में एक निजी स्कूल में शिक्षक द्वारा मारपीट के कारण छात्र द्वारा मारपीट के कारण छात्र की मृत्यु दुखद है। आरोपी शिक्षक के विरुद्ध एससी-एसटी एक्ट की धाराओं में प्रकरण पंजीबद्ध कर गिरफ्तारी की जा चुकी है।

मामले के त्वरित अनुसंधान एवं दोषी को जल्द सजा हेतु प्रकरण केस ऑफिसर स्कीम में लिया गया है। पीड़ित परिवार को जल्द से जल्द न्याय दिलवाना सुनिश्चित किया जाएगा। मृतक के परिजनों को 5 लाख रुपये की आर्थिक सहायता राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष से दी जाएगी।

सतीश पूनिया ने साधा निशाना

भाजपा ने गहलोत सरकार पर जुबानी हमला बोला है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा की गहलोत के राज में एक वंचित वर्ग का छात्र सुरक्षित नहीं है। जालौर की घटना प्रदेश के माथे पर कलंक है। मुख्यमंत्री को पीड़ित परिवार की सहायता कर दोषियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए।

भाजपा सांसद किरोड़ी लाल ने घटना की कड़े शब्दों में निंदा की है। सांसद ने ट्वीट कर लिखा- जालौर जिले के सुराणा गांव के एक निजी स्कूल में दलित बच्चे द्वारा मटके से पानी पी लेने पर विकृत मानसिकता के संचालक की मारपीट से बच्चे की इलाज के दौरान मौत हो गई। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को मामले में तुरंत संज्ञान लेते हुए कार्रवाई करनी चाहिए। मुखिया जी के राज में दलित सुरक्षित नहीं है।

इलाज के दौरान हो गई छात्र मौत

उल्लेखनीय है कि जालौर जिले के सुराणा गांव के एक निजी स्कूल में 20 जुलाई को एक दलित छात्र ने मटके को छू लिया। परिजनों का आरोप है कि इसके बाद शिक्षक छैल सिंह ने इतनी पिटाई की थी कि बच्चे के कान की नस फट गई। उसकी हालत गंभीर हो गई। अहमदाबाद के अस्पताल में इलाक के लिए भर्ती कराया गया था। जहां शनिवार को उसकी मौत हो गई। जालौर एसपी हर्षवर्धन अग्रवाला ने कहा कि आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया गया है।

SC-ST एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। शनिवार को जालौर एसपी मौके पर पहुंचे थे। जालौर एसपी के मुताबकि शांति है। जानकारी के अनुसार 20 जुलाई को तीसरी कक्षा के छात्र इंद्र मेघवाल ने पानी की मटका को छू लिया था। परिजनों का आरोप है कि इसके बाद शिक्षक छैल सिंह ने इतनी पिटाई की थी कि बच्चे के कान की नस फट गई। उसकी हालत गंभीर हो गई। अहमदाबाद के अस्पताल में इलाक के लिए भर्ती कराया गया था।

Must Read

spot_img