टीम भेजने के बाद शतरंज ओलंपियाड से हटा पाकिस्तान, भारत बोला- खेल का राजनीतिकरण न करो

भारत ने गुरुवार को 44वें शतरंज ओलंपियाड खेल का राजनीतिकरण करने के लिए पाकिस्तान की खिंचाई की। बता दें कि चेन्नई में गुरुवार से शुरू होने जा रहे 44वें चेस ओलंपियाड से पाकिस्तान ने अपना नाम वापस ले लिया है। शतरंज ओलंपियाड से पाकिस्तान के हटने के फैसले को ‘‘बेहद दुर्भाग्यपूर्ण’’ करार देते हुए विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि यह हैरानी की बात है कि पाकिस्तान ने अचानक शतरंज ओलंपियाड में भाग नहीं लेने का फैसला किया, खासकर जब उसकी टीम भारत पहुंच गई थी।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने पाकिस्तान के शतरंज ओलंपियाड में हिस्सा लेने से पीछे हटने के निर्णय के बारे में पूछे जाने पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि पाकिस्तान ने प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय आयोजन का राजनीतिकरण किया।’’ उन्होंने बताया कि हैरानी की बात है कि पाकिस्तान ने अचानक शतरंज ओलंपियाड में भाग नहीं लेने का फैसला किया, खासकर जब उसकी टीम भारत पहुंच गई थी। उन्होंने कहा कि उन्हें बताया गया है कि उनकी (पाकिस्तान) टीम यहां पहुंच गई है।

बागची ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ बयान देकर और प्रतियोगिता में हिस्सा लेने से पीछे हटकर ऐसे आयोजन का राजनीतिकरण करने का प्रयास किया है। प्रवक्ता ने कहा कि वे स्पष्ट करना चाहते हैं कि सम्पूर्ण जम्मू कश्मीर और लद्दाख भारत का अभिन्न हिस्सा है।

गौरतलब है कि 44वें शतरंज ओलंपियाड का आयोजन तमिलनाडु के मामल्लापुरम में हो रहा है। भारत में पहली बार ओलंपियाड हो रहा है और इसमें रिकॉर्ड खिलाड़ी भाग ले रहे हैं। यह प्रतियोगिता 13 दिन चलेगी और 10 अगस्त को चैंपियन मिलने के बाद इसका समापन होगा। ओपन वर्ग में 188 और महिला वर्ग में 162 खिलाड़ी उतरेंगे। ओलंपियाड रूस में होना था लेकिन यूक्रेन पर रूस के सैन्य हमले के बाद उससे मेजबानी छीन ली गई। हालांकि चेस के दिग्गज चीन और रूस इस बार टूर्नामेंट में नहीं शामिल हो रहे हैं। वहीं बात करें विश्व चैंपिनय विश्वनाथन आनंद की तो वह टीम इंडिया के मेंटर हैं इसलिए वह भी प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं लेंगे।